गणतंत्र दिवस पर 500 शब्दों का निबंध | now gyan

प्रस्तावना :-  

गणतंत्र दिवस का दिन प्रत्येक भारतीय के लिए एक महत्वपूर्ण दिवस है। क्योंकि इस दिन हमारे देश का संविधान लागू हुआ था। तथा हमारा देश एक स्वतंत्र राष्ट्र बन गया। हम सभी भारत के प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं। 

भारत की स्वतंत्रता भारत के स्वतंत्र राष्ट्र बनने के लिए कई महापुरुषों ने संघर्ष किया। अंग्रेजो ने भारत पर कई वर्षो तक अपना राज किया तथा इसे गुलाम बनाया। प्राचीन काल में भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था। लेकिन अंग्रेज यहां से सब कुछ लूट कर ले गए।

गणतंत्र दिवस पर 500 शब्दों का निबंध
republic-day-essay-hindi-500-words

गणतंत्र दिवस का इतिहास :-

17 वीं शताब्दी में भारत में उपनिवेशवाद का आगमन प्रारंभ हुआ। जिसमें से प्रमुख पुर्तगाली, डच, फ्रांस, ब्रिटेन आदि थे। यह लोग भारत के साथ व्यापार करने में इच्छुक थे।  उन्होंने भारत के राजाओं के मध्य फूट डाली और यहां पर राज किया तथा उन्होंने राजाओ के बीच हो रहे युद्धों का फायदा उठाया । इसी प्रकार से अंग्रेजों ने भारत पर कब्जा जमा लिया। इसके बाद भारत में जनता के लिए विद्रोह होने लगे।

 जिसमें से प्रमुख विद्रोह 1857 की क्रांति की जो कि सबसे पहले ऐसा विद्रोह था। जो कि संपूर्ण राष्ट्र में चला जबकि छोटे-छोटे विद्रोह तो रोज हुआ करते थे। इस संघर्ष की गाथा 15 अगस्त 1947 तक चली इसके बाद 26 जनवरी 1950 को भारत एक गणराज्य बन गया।

26 जनवरी की पुण्यतिथि भारतीय संविधान के लागू होने के बाद के लिए प्रख्यात है।हमारे देश का संविधान बहुत ही बड़ा व विस्तृत है।  इसको बनाने में 2 वर्ष 11 माह 18 दिन का समय लगा ।भारत के संविधान को अनके नामों से जाना जाता है, जिसमें से प्रमुख है भानुमती का पिटारा क्योंकि हमारे देश का संविधान विश्व का सबसे बड़ा लिखित संविधान है।

भारत की संविधान संबंधी जानकारी :- 

  •  गणतंत्र दिवस को संविधान दिवस के रूप में मनाया जाता है
  • संविधान सभा की प्रथम बैठक सन 1946 में हुई
  • संविधान सभा की प्रथम बैठक के बाद भारत देश दो भागों में बांटा गया जिसमें पहला भारत का व दूसरा पाकिस्तान।
  • संविधान सभा के सदस्यों की कुल संख्या 299 थी।
गणतंत्र दिवस  निबंध

गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम :- 

26 जनवरी के दिन देश के प्रथम नागरिक अर्थात देश के राष्ट्रपति राष्र्टध्वज फहराते हैं, तथा सभी लोग सामूहिक रूप से राष्ट्रगान का उच्चारण करते हैं । इस दिन देश की राजधानी अर्थात दिल्ली में उत्साह मनाया जाता है। तथा लाल किले पर झंडा रोहण होता है।

    गणतंत्र दिवस के दिन विद्यालयों में अनेक प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं। तथा इनका आयोजन किया जाता है। तथा प्रत्येक सरकारी तथा गैर सरकारी कार्यालयों में झंडारोहण होता है। और मिष्ठान वितरण होता है

गणतंत्र दिवस की तैयारी :- 

विद्यालयों में इन सब कार्यक्रमों की तैयारी 2 से 3 दिन पूर्व हो जाती है । जबकि जो कार्यक्रम लाल किले पर अर्थात राष्ट्रीय स्तर पर होते हैं । उन कार्यक्रमों की तैयारी 6 माह पूर्व से होती है, तथा इसमें सबसे प्रमुख सेना की परेड होती है ।और इसकी तैयारी सेना 6 माह पूर्व से करके रखती है।

  गणतंत्र दिवस के दिन सबसे मनोरम स्थल दिल्ली का लाल किला होता है। जहां पर अनेक प्रकार के कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाते हैं। इसमें सेना की परेड, झांकियां तथा विभिन्न प्रकार की भाषाएं बोली के लोग अपने राज्य से आकर के यहां पर अपना प्रदर्शन करते हैं। और गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली में उत्सव होता है।

विद्यालय में गणतंत्र दिवस :- 

गणतंत्र दिवस के दिन विद्यालय की सभी छात्र विद्यालय में एकत्रित होकर की प्रभात फेरी की तैयारी करते हैं,और प्रभात फेरी होती है। जिसमें कि विद्यार्थी नारे लगाते हैं,तथा राष्ट्र गीत गाते है तथा समूह गानों का गाते हुए चलते हैं। प्रभात फेरी होने के बाद विद्यार्थी अपने विद्यालय में एकत्रित होते हैं। और तब वहां पर विद्यालय के प्रधानाचार्य जी एवं मुख्य अतिथि झंडारोहण करते हैं। तथा सभी मिलकर राष्ट्रगान का उच्चारण करते हैं।

गणतंत्र दिवस पर 500 शब्दों का निबंध
गणतंत्र-दिवस-पर-500-शब्दों-का-निबंध

उपसंहार :- 

इसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। जिसमें गायन वादन नृत्य देशभक्ति गीत आदि कार्यक्रम प्रस्तुत होते हैं। इसके बाद मिष्ठान वितरण किया जाता है। अंत में विद्यालय की छुट्टी होती है। इस प्रकार से संपूर्ण देश में गणतंत्र दिवस मनाया जाता है।

1 thought on “गणतंत्र दिवस पर 500 शब्दों का निबंध | now gyan”

Leave a Comment

Your email address will not be published.