सिक्ख धर्म

सिक्ख धर्म का आगमन || Sikh religion Of India In Hindi || Now Gyan

सिख धर्म भारत का चौथा सबसे बड़ा धर्म है। सिख धर्म की शुरुआत गुरु नानक जी के जन्म से मानी जाती है। सिख धर्म के लोग मुख्यतः पंजाब में निवास करते हैं। लेकिन भारत के अन्य हिस्सों में भी सिख धर्म के लोग रहते हैं।

सिक्ख धर्म का इतिहास || History of Sikh religion In Hindi :-

सिख धर्म की शुरुआत सिख धर्म की सबसे पहले गुरु, गुरु नानक देव जी द्वारा की गई थी। उस समय पंजाब में हिंदू और इस्लाम धर्म ही उपस्थित था। तब गुरु नानक देव ने लोगों को सिख धर्म की जानकारी देनी शुरू की। जो इस्लाम और हिंदू धर्म से काफी अलग था। गुरु नानक देव के बाद 9 गुरु और आए। जिन्होंने सिख धर्म को आगे बढ़ाया।

> भारत में धर्म व साम्राज्य
>  भारत की वैदिक सभ्यता
>  भारत का प्राचीन इतिहास

सिक्ख धर्म के संस्थापक || founder of Sikhism in hindi :-

सिख धर्म की स्थापना गुरु नानक देव के द्वारा की गई। इसके बाद भी अनेक अनेक गुरु आए जिन्होंने सिख धर्म को आगे बढ़ाया। तो उनका विवरण निम्नवत है :

  1. सद्गुरु नानक देव [ Sadguru Nanak Dev ]
  2. सद्गुरु अमरदास [ Sadguru Amardas ]
  3. सद्गुरु अर्जुन देव [ Sadguru Arjun Dev ]
  4. सद्गुरु हरीश राय [ Sadhguru Harish Rai ]
  5. सद्गुरु तेग बहादुर [ Sadhguru Tegh Bahadur ]
  6. भक्त कबीर जी [ Bhakta Kabir ji ]
  7. भक्त नामदेव [ Bhakta Namdev ]
  8. सद्गुरु अंगद देव [ Sadguru Angad Dev ]
  9. सद्गुरु रामदास [ Sadguru Ramdas ]
  10. सद्गुरु हरि गोविंद [ Sadguru Hari Govind ]
  11. सद्गुरु हरि कृष्ण [ Sadguru Hari Krishna ]
  12. सद्गुरु गोविंद सिंह [ Sadguru Gobind Singh ]
  13. शेख फरीद [ sheikh farid ]
सिक्ख धर्म || सिक्ख धर्म का आगमन |

सिख धर्म के लोग अपने पंथ को गुरु मत कहते हैं। परंपरा के अनुसार सिख धर्म की स्थापना गुरु नानक जी के द्वारा की गई। बाद में नौ अन्य गुरुओं ने इसका नेतृत्व किया। सिख धर्म के लोग मानते हैं कि 10 मानव गुरुओं में एक ही आत्मा का वास था।

सिख धर्म में महिलाओं की स्थिति :-

सिख धर्म शास्त्र मुख्य रूप से महिलाओं के अधिकार का समर्थन करता है। लैंगिक समानता का समर्थन करता है। किंतु पंजाबी संस्कृति की कुछ परंपराओं के कारण आधुनिक समाज में सिख पुरुषों के समान नहीं है।

सिक्ख धर्म का अर्थ || meaning of Sikh religion :-

पंजाबी भाषा में सिख धर्म का अर्थ– शिष्य होता है। ईश्वर के है। जो 10 सिख गुरुओं के लेखन और शिक्षाओं का पालन करते हैं। ईश्वर में विश्वास करते हैं। उनका मानना है, कि उन्हें अपने प्रत्येक काम में ईश्वर को याद करना चाहिए।

सिक्ख धर्म || sikh dharm hindi mai

सिख धर्म में जातियाँ :-

सिख धर्म में कुछ प्रमुख जातियां हैं। जिनका अपना एक विशेष महत्व है और अपना एक विशेष महत्व है। जिनका विवरण निम्नवत किया गया है :-

  • अरोड़ा [ Aurora ]
  • रामगढिया [ Ramgarhia ]
  • जाट [ Jat ]
  • सैनी [ Saini ]
  • कंबोह [ Kamboh ]
  • महतो, आदि जातियां हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.